मधुमेह का घरेलू उपचार – आयुर्वेदिक टिप्स

मधुमेह यानी डायबिटीज आजकल एक गंभीर समस्या बन गई है। जिसकी वजह से डायबिटीज एक खतरनाक बीमारी का रूप ले चुकी है। पहले यह माना जाता था कि 40 की उम्र पार करने के बाद मधुमेह का खतरा अधिक होता है लेकिन अब यह समस्या युवा वर्ग के लोगों में भी दिखने लगी है। जिसकी कई वजह हैं। जैसे डेली रूटीन में बदलाव, देर रात तक जागना, योग व मेडिटेशन न करना और घंटो काम करते रहना आदि हैं। डायबिटीज को जल्दी ही रोकने के कुछ टिप्स हैं यदि नियम के अनुसार आप इन वैदिक टिप्सों को अपनाओगे तो शुगर आपको कभी हो नहीं सकती है। और यदि शूगर है वो भी जल्दी से ठीक हो सकती है।

भोजन एैसा हो
यदि डायबिटीज की समस्या हो तो अपने भोजन को सरल व सादा बनाएं। अधिक नमक मिर्च वाले भोजन से परहेज करें। गेहूं के आटे में 1 भाग चने के आटे को मिलाकर उससे बनी रोटीयों का सेवन करें। आप केवल चने के आटे की रोटीयां भी ले सकते हो। एैसा करने से मूत्र मार्ग से शूगर आना बंद हो जाएगा।

मालिश का फायदा
रोज शरीर पर तेल की मालिश करने से आपको डायबिटीज नहीं होगा। नहाने के बाद शरीर की तेल मालिश करना अच्छा माना जाता है। या फिर नहाने के बाद 5 से 10 मिनट तक गीले तौलिये से शरीर की मालिश भी कर सकते हैं।

मानसिक तनाव को दूर रखें
जब कभी भी एैसा लगे कि टेंशन हावी हो रहा हो तो उसी समय अपने दिमाग को तुरंत किसी ओर विचार की तरफ ले जाएं। क्योंकि आप जितना दिमागी रूप से स्वस्थ रहेगें उतना ही डायबिटीज से भी दूर रहोगे। आप जिस भी हाल मे हो उसमें खुश रहना सीखें। मानसिक रूप से स्वस्थ रहना हर इंसान को कई रोगों से दूर रखता है। चिंता न करें इसके लिए मेंडिटेशन करना न भूलें ।  READ:  मेंडिटेशन करने के तरीके

मेथी का सेवन
डायबिटीज को मेथी खत्म करती है। मेथी साल में 6 माह ही मिलती है। लेकिन मेथी का पाउडर साल भर बाजार में रहता है। इसलिए आप मेथी का सेवन किसी न किसी रूप में कर सकते हो। मधुमेह के रोगियों को मेथी की सब्जी का सेवन जरूर करना चाहिए। मेथी दाना 6 ग्राम लें और इसे हल्का मोटा पीसकर शाम को 250 ग्राम पानी में भिगोकर रख लें और सुबह इसे अच्छे से घोट लें और साफ कपड़े से छानकर इसे पिएं। लगातार 2 महीने तक एैसा करने से डायबिटीज से निजात मिल जाएगा।

मधुमेह नाशक प्राकृतिक चीजों का इस्तेमाल
जो लोग मधुमेह नाशक भोजन का इस्तेमाल करते हैं उन्हें जीवन में डायबिटीज कभी नहीं होती है। प्राकृतिक पदार्थ जैसे चोलाई, हरी सब्जियां, पुदीना, खीरा, गाजर, नींबू, नारियल, लौकी, प्याज, छाछ और धनिया। इनका इस्तेमाल किसी न किसी रूप में करते रहने से डायबिटीज इंसान को नहीं हो सकती है। ये सब चीजें मधुमेह नाशक हैं।

जीवनशैली में बदलाव लाएं
यदि आप अपने डेली रूटीन में थोड़ा बदलाव करते हैं तो इसकी वजह से भी मधुमेह कम समय में ठीक हो सकता है। रात को 8 बजे तक खाना खा लें। 10 बजे सोने की आदत डालें। और सोने से पहले जितना हो सके पानी पीएं। सुबह 5 बजे उठने का नियम बना लें। 2 से 5 गिलास सुबह खाली पेट पानी पीएं। आधे घंटे की सैर पर निकला शुरू कर दें। अपने नाशते में 1 कटोरी दलिया, 1 गिलास दूध या फल आदि को जरूर शमिल करें। दिन में दाल, रोटी, सलाद और दही आदि का इस्तेमाल भी कर सकते हो। रात में कम खाना खाएं।

दिन में सोन से बचें
अधिकतर देखा गया है महिलाएं घरेलू कामों को करने के बाद दोपहर में सो जाती हैं। दिन में सोना सेहत के लिए हानिकारक होता है। क्योंकि दिन में सोने से अपच, सिरदर्द, बदनदर्द जैसी कई परेशानियां हो सकती हैं साथ ही डायबिटीज का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए दिन में भी अपने को व्यस्त रखें।

पेट साफ रखें
डायबिटीज पाचनतंत्र का रोग होता है। इसलिए पेट का साफ होना जरूरी है। जिसके लिए पानी को नियमित रूप से पीते रहें। पेट साफ रखने के लिए आप 1 चम्मच त्रिफला पाउडर को दूध में मिलाकर सेवन करें। ताकि सुबह पेट अच्छे से साफ हो सके। कब्ज से ही डायबिटीज होती है।

करेला
डायबिटीज के लिए करेला एक कारगर दवा से कम नहीं है। जिन लोगों को मधुमेह की समस्या हो वे प्रतिदिन करेले की सब्जी खाएं। जो लोग करेला पहले से ही खाते आएं हैं उन्हें कभी डायबिटीज की बीमारी नहीं लगती है। करेला खाने से शरीर में ग्लूकोज की मात्रा कम हो जाती है।

मोटापा दूर करें
मधुमेह का सबसे अधिक खतरा मोटे लोगों को रहता है। इसलिए अपने दिन की शुरूआत में सुबह खाली पेट 1 गिलास बथुआ का रस पिएं और इसके बाद नाशता न लें। दिन में केवल सादी रोटी और मूंग की दाल या उबली हुई हरी सब्जी का सेवन करें। इस तरह का आहार लेने से आप डायबिटीज के खतरे से बच सकते हो।

दूर रहें इन चीजों से
मीठे फल, चावल, आलू और तंबाकू आदि से दूर रहें।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।