दर्द निवारण आयुवेर्दिक उपाय

इंसान के शरीर में दर्द होना एक सामान्य बात है। लेकिन दर्द से शरीर टूट जाता है। दर्द चाहे सिर में हो या पेट में यह आपको परेशान कर सकता है। लेकिन अक्सर आप में से बहुत लोग दर्द को खत्म करने के लिए दर्द निवारक दवाओं का इस्तेमाल करने लगते हैं जो सीधे आपको अंदर से कमजोर बना देती है। ऐसे में आयुर्वेद में कुछ नुस्खे आपको शरीर में होने वाले किसी भी तरह के दर्द से निजात दे सकते हैं। दर्द से बचने की ये सारी प्राकृतिक औषधियां आपके घर में ही मौजूद रहती हैं बस आपको इनका पता नहीं होता है।  वैदिक वाटिका आपको इन हब्र्स के बारे में बता रही है।

दर्द निवारण आयुवेर्दिक उपाय

हींग का इस्तेमाल :

दर्द को खत्म करने की सबसे अचूक दवा है हींग। पेट फूलना, पेट में गैस से दर्द होना आदि में हींग सेवन से ठीक हो जाता है। हींग खाने से बलगम की समस्या खत्म होती है और हींग भूख को बढ़ाती है।

एलोवेरा :

एलोवेरा भी दर्द निवारक घरेलू प्राकृतिक औषधि है। पेट दर्द, घाव, दर्द, जोड़ों का दर्द, त्वचा संबंधी रोग या सूजन हो तो ऐलोवेरा के गूदे में हल्दी और सेंधा नमक मिलाकर इसका सेवन करें। यह उपाय शरीर की सूजन और दर्द में भी तुरंत राहत देता है।

प्याज का प्रयोग :

शरीर पर कहीं भी सूजन , चोट या मोच आ जाए तो प्याज का इस्तेमाल करके यह पूरी तरह से ठीक हो सकता है।

कैसे करें प्याज का इस्तेमाल :

प्याज को अच्छी तरह से भूनें और इसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को मोच व सूजन वाली जगह पर लगा लें। इससे आपको तुरंत राहत मिलेगी।

सरसों का प्रयोग :

यदि शरीर के किसी भी हिस्से के जोड़ों  में दर्द हो रहा हो तो सरसों के तेल को गर्म करके उसकी मालिश करें। कान के दर्द में भी सरसों के तेल को गुनगुना करके डालने से कान दर्द में आराम मिलता है। जोड़ों में होने वाले दर्द में गुनगुने सरसों के तेल की मालिश से दर्द ठीक हो जाता है।

लौंग का प्रयोग :

मुंह संबंधी दर्द को दूर करने की अचूक दवा है लौंग। यदि आपके दांत में दर्द हो रहा हो तो एक लौंग को अपने दांतों के बीच में रख कर चूसें।आप चाहें तो लौंग के तेल की एक बूंद दांत दर्द वाली जगह पर लगा सकते हैं।  इससे आपको दांतों के दर्द में राहत मिलेगी।

काली मिर्च :

काली मिर्च भी मुख संबंधी रोग जैसे दांतों और मसूड़ों आदि की सूजन में राहत देती है। कैसे करें काली मिर्च का इस्तेमाल दर्द से राहत पाने के लिए बारीक पीसकर काली मिर्च का चूर्ण बना लें और इसे मसूड़ों व दांतों पर अच्छे से मलें। आपको इस उपाय से काफी फायदा मिलेगा।

अजवायन :

पेट में ऐठन और पेट में दर्द को ठीक करने के लिए अजवायन का सेवन करें। इसके लिए आप गुनगुने पानी में एक छोटी चम्मच अजवायन को मिलाकर पीएं। जोड़ों के दर्द से आराम पाने के लिए आप काला नमक को अजवायन के साथ मिलाकर सेवन करें।

अदरक :

कई तरह के दर्द व बीमारियों को ठीक करता है अदरक। जुकाम, दमा व श्वास संबंधी रोगों में अदरक का सेवन लाभकारी होता है। इसके अलावा यह गठिया के दर्द, जोड़ों के दर्द और सूजन आदि को ठीक करने का काम करता है अदरक।

पसलियों में दर्द कारण और उपचार

मुलेठी :

मुलेठी मुंह के अल्सर यानि की छालों से होने वाले दर्द को तुरंत राहत देती है। आप मुलेठी के पानी से कुल्ला करें। या फिर इसको निगल लें। आपकों माउथ अल्सर से छुटकारा मिल जाएगा। इसके अलावा यह गले के दर्द को भी ठीक करती है।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।