दाद और खुजली को दूर करने के वैदिक उपचार

दाद और खुजली, यह त्वचा संबंधी रोग है जिसकी वजह से काफी परेशानी होती है। आइये आपको इन रोगों के लक्षणों और इनके कारगर वैदिक उपायों के बारे में बताते हैं जो इन बीमारीयों को दूर करेगा।
 
दाद के लक्षण
दाद यह त्वचा का रोग है जो आपकी त्वचा पर फफूंद के रूप में दिखता है और इसका आकार गोल व रंग लाल होता है जो धीरे-धीरे बढ़ने भी लगता है। दाद त्वचा, बालों और नाखूनों को प्रभावित करता है।
 
  दाद के कारण
1. यह संक्रमित व्यक्ति को छूने से या उसके तौलिए का इस्तेमाल करने से भी हो सकता हैं।
2. कुत्ता, बिल्ली या अन्य पालतू जानवरों की संक्रमित त्वचा के संपर्क में आने से भी दाद फैल सकता है।
 
 दाद का इलाज
1. आप नीम के पत्तों को पीसकर उसका लेप तैयार करें और इस लेप को दाद वाले स्थान पर मलें।
2. नहाने के पानी में नीम की पत्तीयां डालकर स्नान करें और स्नान रोज करें।
3. कपड़े साफ और सूखे पहने क्योंकि गीला कपड़ा पहने से दाद का आकार बढ़ता है।
4. तुलसी के पत्तों को पीसकर उसका पेस्ट बनाएं और इसे दाद वाले स्थान पर मलें।
5. दाद होने पर आप उसकी ठंठे पानी और गरम पानी दोनों की बारी-बारी से सिंकाई करें।
6. अपना बिस्तर  हमेशा साफ रखें।
7. साफ सुतरे कपड़े पहनें और भोजन साधा खायें।
 
 खुजली
खुजली यह भी त्वचा संबंधी रोग है और त्वचा को ज्यादा रगड़ने से त्वचा पर जलन भी होती है। आइये जानते है इसके कारण और इलाज-

खुजली होने की वजह-
1. पसीना आने की वजह से।
2. तनाव की वजह से।
3. दवाई के गलत असर होने से।
4. गलत तरह से यौन संबंध बनाने से।
5. संक्रमित जानवर के संपर्क में आने से।
6. सिर पर जुंओं की वजह से।

खुजली दूर करने के वैदिक उपाय:
1. नीम के पत्तों का लेप लगाने से खुजली से निजात मिलता है।
2. खुजली वाली जगह पर नारियल का तेल लगाने से आराम मिलता है।
3. टमाटर के मिश्रण में नारियल का पानी मिला कर खुजली वाली जगह पर लगाने से खुजली दूर होती है।
4. खुजली यदि पूरे शरीर में हो रही है तो आप दूध की मलाई को खुजली वाले स्थानों पर लगायें।
 
  
 
  
 

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।