तेजपात के फायदे

तेजपात को प्राचीन आयुर्वेद में एक औषधी के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। तेजपात खाने का स्वाद और महक दोनों को बढ़ाता है। क्या आप जानते हैं तेजपात के सेवन से कई तरह की बीमारियां ठीक हो सकती हैं। आयुर्वेद में तेजपात के उन रहस्यों को आपको बताया जाएगा जिससे आप आरोग्य और लंबी उम्र बनायेगा ।(Health tips in hindi)

तेजपात के फायदे (benefits of white sage)

1. जिन लोगों को हकलाने की आदत हो वे तेजपात के पत्तों को रोज चूसें। इससे हकलाने की समस्या ठीक होती है।

2. खांसी की समस्या से निजात पाने के लिए शहद के साथ 1 चम्मच तेजपात के चूर्ण को मिलाकर पीने से खांसी से राहत मिलती है।

3. सिर दर्द, छीकों का अधिक आना, सर्दी जुकाम और पेट में जलन होने पर तेजपात के चूर्ण की चाय पीने से ठीक हो जाते हैं। चाय की पत्ती की जगह तेजपात का चूर्ण डालें।

4. दांतों की प्राकृतिक चमक पाने के लिए तेजपात का चूर्ण दांतों पर सुबह शाम मलना चाहिए।

5. दांतों की मजबूती और दांतो में कीड़े की समस्या से बचने के लिए सप्ताह में 3 से 4 दिन तेजपात के चूर्ण से दांतों का मंजन करें।

6. यदि पेट में गैस की समस्या है तो 3 चुटकी तेजपात का चूर्ण को पानी के साथ सेवन करें। आपको राहत मिलेगी। साथ ही साथ यह पेट में जलन यानि एसीडिटी की दिक्कत को भी दूर करता है।

7. दमा के रोगीयों के लिए तेजपात एक बेहतर दवाई है। मिश्री, अदरक, पीपल और तेजपात को बराबर की मात्रा में मिलाकर चटनी बना लें फिर डेली 1 चम्मच चटनी का सेवन करें।
 
8. कमजोर आखों की कमजोरी को दूर करने के लिए और आंखों की सफाई के लिए तेजपात के चूर्ण का सुरमा लगा सकते हो। यह आंखों की दृष्टि को तेज भी बनाता है।

9. तेजपात के 5 पत्तों को पानी में उबालें और उस पानी से सिर की मालिश  और बादमे नहा लें एैसा करने से बाल मजबूत तो बनते हैं साथ ही सिर में जुएं भी नहीं होते।

10. मुंह की दुर्गन्ध को दूर करने के लिए तेजपात का टुकड़ा खाना खाने के बाद खाएं। यदि आपको हाथों के बगल में पसीना अधिक आता हो तो तेजपात के चूर्ण को पाउडर की तरह हाथों के बगलों में लगायें।

11. नियमित अपने खाने में तेजपात का इस्तेमाल करने से आप कभी भी दिल की परेशानी से परेशान नहीं होगे।

12. पेट सबंधी बीमारियों को दूर करने के लिए आप तेजपात का काढ़ा बनाकर पीएं। इससे आंत और दस्त की परेशानी ठीक होती है।

तेजपात के अन्य फायदे

1- उनी, रेशमी और सूती कपड़ों को कीड़ों से बचाने के लिए तेजपातों को कपड़ों के बीच में रख दें।

2- जिन लोगों के पैर में बदबू की समस्या होती है वे तेजपात के चूर्ण को पैर के तलुवों पर मलें और फिर जुराबें पहनें।

तेजपात सेहत के लिए एक बेहतर औषधी है। तेजपात बीमारियों को दूर करने के साथ साथ खाने का स्वाद और महक को भी बढ़ाता है ।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।