अशोक के पेड़ से होने वाले लाभ

प्रकृति ने पेड़ और पौधों को भी हमारी सेहत की रक्षा के लिए बनाया है। बस हमें इस बारे में जानकारी नहीं होती है कि कौन सा पेड़ व कौन सा पौधा हमें स्वस्थ और निरोग बना सकता है। एैसा ही एक पेड़ है अशोक का पेड़। जिसके बारे में मान्यता है की जिस पेड़ के नीचे बैठने से कोई शोक नहीं होता वह अशोक का पेड़ होता है। आयुर्वेद में इसे हेमपुष्प, ताम्र पल्लव आदि कहा जाता है। दवाई के रूप में अशोक के पेड़ के फूल, छाल और बीजों का प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेद में अशोक के पेड़ के बारे में कहा गया है इसका रस कसेला, कड़वा और ठंडी प्रकृति का होता है। ये रंग में निखार लाता है और सूजन को दूर करता है।

अशोक के पेड़ के आयुर्वेदिक फायदे

सफेद प्रदर रोग में
सफेद प्रदर की समस्या बेहद कष्टदायक होती है। इस समस्या से निजात पाने के लिए अशोक की छाल के चूर्ण में बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर गाय के दूध के साथ एक-एक चम्मच दिन में तीन बार लें। एैसा कुछ सप्ताह तक करने से श्वेत प्रदर रोग खत्म होने लगता है।

गर्भधारण की परेशानी
जिन महिलाओं को गर्भधारण करने में बार-बार परेशानी आ रही हो वे अशोक के फूल की 2 से 3 ग्राम मात्रा दही में डालकर सेवन करें। इसके नियमित सेवन करने से बिना किसी दिक्कत के स्त्री का गर्भ स्थापित हो जाता है।

पेशाब की परेशानी
पेशाब संबंधी किसी भी परेशानी को दूर करने के लिए अशोक के बीजों को पानी में पीसकर नियमित रूप से 2 चम्मच की मात्रा पीने से पेशाब रूकने की समस्या और पथरी की परेशानी में आराम मिलता है।

फोड़े-फुंसी दूर करे
फोड़े और फुंसी को दूर करने के लिए अशोक की छाल को पानी में उबालें और जब यह गाढ़ा हो जाए तब इसमें थोड़ा सरसों का तेल मिलाकर इसे फोड़े और फुंसीयों पर लगाएं।

पथरी रोग में
अशोक के 2 ग्राम बीजों को पानी के साथ पीसकर 2 चम्मच की मात्रा में पीने से पथरी के दर्द में आराम मिलता है।

हड्डी टूटने पर
हड्डी टूटने पर अशोक के पेड़ की छाल का 6 ग्राम चूर्ण दूध के साथ सुबह शाम लेने से टूटी हड्डी और उसमें होने वाला दर्द ठीक हो जाता है।  ये भी पढे-आहार जो बनाए पुरूषों को आकर्षक

खूनी प्रदर में
अशोक की छाल, दालचीनी, इलायची और सफेद जीरा को मिलाकर उबालकर काढ़ा तैयार करें और इसे छानकर दिन में 3 बार कुछ सप्ताह तक पीएं। आपको आराम मिलेगा।

अशोक के पेड़ के बारे में ये सारी जानकारियां केवल आयुर्वेदिक वैधों को पता होती है। वैदिक वाटिका का प्रयास है आपको हर तरह की आयुवेर्दिक जानकारी देना ताकि आपकी सेहत स्वस्थ रह सके।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।