बच्चों के दांत निकलना – सावधानियां और जानकारी

बच्चों के दांत निकलना आम बात है। बच्चों के दांत निकलने की शुरूआत 7 से 8 वें महीने से हो जाती है और कई बार दांत देरी से भी निकलते हैं। बच्चों के दांत पहले नीचे से निकलना शुरू होते हैं और बाद में उपर से। जब बच्चों के दांत निकलते हैं तब उन्हें बेहद परेशानी होती है। जिस वजह से अक्सर घर के लोग भी परेशान होने लगते हैं। और कई बार जानकारी न होने की वजह से बच्चों को संक्रामक बीमारियां तक लग जाती हैं। जिस कारण बच्चा कमजोर और चिड़चिड़ा हो जाता है। वैदिक वाटिका आपको बच्चों के दांत निकलते समय की समस्या के कारण और उसका आयुवेर्दिक उपचार को बताने जा रहा है। जिससे बच्चे को बिना किसी परेशानी के दांत अच्छे से निकलते हैं।
शिशु के दांत कम कम समय के अंतर पर निकलते हैं। और दो साल की उम्र तक लगभग 20 दांत निकल आते हैं। और सात साल की उम्र के बाद वे गिरने लगते हैं।
शिशु के दांत निकलने की प्रक्रिया क्या होती आपको वो भी जाननी जरूरी है
सबसे पहले नीचे मध्य के दो दांत जिन्हें कुतरनेवाले दांत कहा जाता है वे 6 से 8 माह तक की आयु में निकल आते हैं।
दो से तीन महीने के बाद शिशु के चार छेदक दांत निकलते हैं।
इसके बाद डेढ़ साल की उम्र तक दांतों के दोनों ओर के दांत और चार दाढ़ें दो उपर की और दो नीचे की निकल आती हैं।
तीन साल के अंत तक बच्चे के कुल बीस दांत निकल आते हैं।

दांत निकलते समय बच्चों को होने वाली बीमारी के लक्षण:

  • बच्चों के मसूढ़ों मे सूजन, खुजली और दर्द का होना।
  • बार-बार दस्त लगना व पेट में दर्द और कब्ज होना।
  • बुखार आना और आंख का दुखना।
  • बच्चे का चिडचिडा होना और अधिक रोना।

इन महत्वपूर्ण बातों को ध्यान में रखे :

  • दांत निकलने के समय बच्चे को खिचड़ी, उबला हुआ सेब, संतरे का जूस व केला आदि जैसी चीजें खाने को दें।
  • बच्चे के जब दांत निकलते हैं तब दांतों में खुजली होने लगती है। एैसे में बच्चे को चबाने के लिए प्लास्टिक के खिलौनें दें और इस बात का ध्यान रहे कि ये खिलौने गरम पानी से साफ व धुले हुए हों। ताकि बच्चे के शरीर में कीटाणु न लग सके।
  • घर का फर्श साफ रखें क्योंकि बच्चा जमीन पर गिरी चीजों को उठाकर सीधे मुंह में डालता है। इस बात का भी ध्यान जरूर रखें कि बच्चा जमीन पर गिरी किसी चीज को मुंह में ना डाले।
  • गाजर और बिस्किट जैसी चीजें बच्चे को थमा दें। क्योंकि ये चीजें सख्त और मुलायम होती है जिससे बच्चे को मसूढ़े की खुजली में राहत मिलती है।

घरेलु उपाय बच्चे के दांत निकले की परेशानी को दूर करने के लिए:

  • दो चम्मच सौंफ को पानी में उबाल लें और इसे छानकर बच्चे को दिन में 4 बार पिलाते रहें। आप दूध में सौंफ का पानी मिलाकर भी बच्चे को दे सकते हो।
  • शहद में तुलसी के पत्तों का रस मिला लें। और कुछ दिनों तक बच्चे को लगातार पिलाते रहें। एैसा करने से बच्चे के दांत बिना किसी परेशानी के निकलते हैं।
  • बच्चे के दांत निकलते समय उसके मसूढ़ों पर शहद रगड़ना चाहिए।
  • दो चम्मच अंगूर का रस बच्चे को दे सकती हो।
  • शहद और अंगूर का रस मिलाकर 2 चम्मच की मात्रा में बच्चे को कुछ दिनों तक रोज पिलाएं।
  • बच्चे को गाजर का रस निकालकर पिलाना चाहिए। इससे दांत आसानी से निकलते हैं और बच्चे को दूध भी जल्दी पच जाता है।
  • बच्चे को रोज छाछ पिलाते रहने से थोड़े ही दिनों में दांत आसानी से निकलने लगते हैं।
  • आंवले का रस बच्चे के मसूढ़ों पर मलते रहने से दांत बिना किसी समस्या के आसानी से निकलने लगते हैं।

दांत निकलना बच्चों में एक सामान्य प्रक्रिया है लेकिन इस वजह से बच्चे को दर्द व काफी परेरशानी भी होती है जिससे घबराने की जरूरत नहीं है। आपको बस इन बातों का ध्यान रखना है। READ :छोटे बच्चों की बीमारियां और उपचार

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।