नींद के आभाव को दूर करने के वैदिक उपाय

भाग दौड़ भरी जिंदगी में समय का आभाव हो गया है, और व्यक्ति रोजी-रोटी कमाने के पीछे दिन-रात भाग रहा है जिस वजह से वह कई गंभीर बीमारियों से घिरता जा रहा है। उनमें से एक सबसे ज्यादा गंभीर बीमारी है नींद का न आना, यानी अनिंद्रा और आदमी इस बीमारी से बचने के लिए तरह-तरह की दवाईयों का सेवन कर रहा है, जो उसके स्वास्थ के लिए भी खराब है। आइये आपको बताते हैं भारतीय वैदिक चिकित्सा में नींद न आने की बीमारी को दूर करने का इलाज, जो आपके स्वास्थ के लिए भी हितकारी है।

नींद न आने के लक्षणः

 
1. आंखों में नींद भरी होना लेकिन नींद न आना।
 
2. आंखे लाल हो जाना।
 
3. कार्य में मन न लगना।
 
  
वैदिक उपाय नींद की कमी को दूर करने केः
1. रात को सोने से 10 मिनट पहले 1 गिलास दूध में 1 चम्मच शहद मिलाकर पीने से नींद न आने की परेशानी दूर होती है।
 
2. गुनगुने पानी में शहद और 2 संतरों के रस को मिलाकर पीना हल्की अनिंद्रा को दूर करने को कारगर वैदिक उपाय है।
 
3. सोने से 10 मिनट पहले गुनगुने पानी में अपने पैर की डुबकी लगा लें या पैर अच्छी तरह से धो लें ।
 
4. सोने से 5 मिनट पहले आप एक पका हुआ केला, भुना हुआ जीरा खायें।
 
5. अश्वगंधा, सर्पगंधा और भांग को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में मिलाकर चूर्ण तैयार करें और इस चूर्ण को रात को सोने से पहले 2 से 4 ग्राम पानी के साथ लें।
 
6. अनिंद्रा को दूर करने के लिए रोगी को जल्दी सोने की आदत डालनी चाहिए।
 
7. सोने से पहले अपने बिस्तर को साफ करें और अपना सिरहाना पूर्व दिशा की तरफ रखें।
 
8. सुबह उठकर योग करें और हरी घास पर नंगे पैर चले।
 
9. सोने से पहले किसी भी प्रकार का तनाव न लें।
 
यदि नींद अच्छी तरह से आयेगी तभी आपके सारे काम सही तरह से हो पायेगें अतः किसी तरह की परेशानी लिये बिना आप अपनी नींद को अच्छी तरह से लें।
 

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।