आयुर्वेदिक टिप्स – इन चीजों से करें परहेज

आयुर्वेद में इंसान की सेहत को स्वस्थ रखने के कई नियम बनाए गए हैं। इनमें से कुछ बातें ऐसी हैं जिन्हें इंसान को त्यागने के लिए कहा गया है। यदि इंसान इन नियमों को अपनाता है तो वह कई तरह के रोगों के अलावा जानलेवा हादसों से भी बच सकता है। वैदिक वाटिका आपको इन्हीं नियमों के बारे में जानकारी दे रही है। ताकि आप स्वस्थ और निरोगी रहें ।  

आयुर्वेद के अनुसार इंसान को कुछ चीजों को त्यागना चाहिए।

  • ओंस में सोना इंसान की सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। इसलिए ओंस में न सोएं।
  • इंसान को धूल से भी बचना चाहिए। 
  • पूर्व या सामने की दिशा से आने वाली हवा ।
  • तेज और कठोर वायु।
  • मुंह ढक कर भी इंसान को नहीं सोना चाहिए।
  • नाक से बालों को हटा देना भी सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है।
  • सांप और हिंसक जानवारों को भी इंसान को नहीं पालना चाहिए।
  • चिता का धुआं भी इंसान की सेहत खराब करता है। इसलिए चिता के धुएं से भी दूर ही रहना चाहिए।
  • कभी भी खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए।
  • सुर्यास्त के समय यानि संध्याकाल में नींद लेना, भोजन का सेवन और पढ़ना नहीं चाहिए।
  • रात का किसी पेड़ के नीचे भी इंसान को नहीं सोना चाहिए।
  • कभी भी दिन में नहीं सोना चाहिए।
  • कान में तिनका या माचिस की तिल्ली नहीं डालनी चाहिए। 
  • नाक में अंगुली नहीं डालनी चाहिए। यह भी सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता है।
  • अनियमित जगह पर भी आपको नहीं थूकना चाहिए।

आप अपने सुझाव और विचार हमे नीचे comment box में जरूर लिखे।  

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।