मुकदमें में जीतने के लिए वैदिक उपाय

कोर्ट में मुकदमा चलना और उसमें आपके पक्ष में फैसला आना बेहद ही मुश्किल भरा होता है। जिस वजह से इंसान और उसके परिवार दोनों ही परेशान हो जाते हैं। यदि कई सालों से कोर्ट के चक्कर लग रहें हो और फैसला तब भी नहीं आ रहा हो तो आप कुछ वैदिक उपायों को करें। इन उपायों को करने से मुकदमें में आपकी जीत जरूर होगी।

मुकदमें में जीतने के लिए वैदिक उपाय

 

आदालत में जब भी जाएं गहरे रंग के कपड़े  पहनकर जाएं।

मुकदमे से जुड़े हुए जरूरी कागजात व फाइलें घर के मंदिर के सामने रखकर भगवान से अपनी रक्षा व जीत के लिए प्राथना करें।

आदालत में जाने से पहले हनुमान जी की मंदिर में जाकर वहां गुड चना, लड्डू का भोग और धूप को जलाकर हनुमान चालीसा और बजरंग बान का पाठ एक बारी जरूर करें। और अपनी विजय की प्राथना करें। इस उपाय से निसंदेह सफलता मिलेगी।

अपने वकील को उसके काम से संबंधित कोई भी वस्तु जैसे घड़ी या कलम आदि उपहार में दें।

मुकदमें से वापस आते हुए रास्ते में किसी भी पीर की मजार पर गुलाब का फूल चढ़ाते हुए ही घर की तरफ आएं।

कोर्ट में मुकदमें के दौरान किसी भी तरह का वाद-विवाद में सफलता पाने के लिए लाल रंग का मूंगा जो कि त्रिकोण के आकार का बना हुआ हो उसे सोने या तांबे में अंगूठी बनवाकर दाहिने हाथ की अनामिका उंगली में धारण करें। इस उपाय को करने से आपके जीतने की संभावना बढ़ जाती है।

यदि कचहेरी में मामला फंस रहा हो या किसी भी तरह की मुसीबत आन पड़ी हो और कुछ समझ नहीं आ रहा हो तो, अपमान की नौबत आन पड़ी हो तो आप बिना देर किए पंचमुखी, सात मुखी या ग्यारह मुखी रूद्राक्ष की माला गले में धारण कर लें। 

किसी मंदिर में ग्यारह हकीक पत्थर को लेकर चढ़ा दें और मन में कहें कि में अमुक काम में विजय होना चाहता हूं । 

यदि मुकदमें में हारने व दण्ड मिलने की संभावना हो तो अपने वजन के बराबर कोयले को बहते पानी में डालकर बहा दें। इस उपाय को करने से न्यायालय में आप कठिन दण्ड मिलने से बच सकते हो।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।