अश्वगंधा के 6 नुकसान

अश्वगंधा के नुकसान जाने हिंदी में क्योंकि यह उनींदापन, पेट संबंधी समस्याएं, विपरीत रिएक्शन और गर्भपात आदि कर सकता है, ashwagandha ke nuksan in hindi

आज हम अश्वगंधा के नुकसान के बारे में बतायेंगें। अश्वगंधा एक झाड़ीदार पौधा होता है। जिसके प्रयोग से कई तरह की बिमारियों की ठीक किया जा सकता है। अश्वगंधा का स्थान प्राचीन भारतीय चिकित्सा और आयुर्वेद में काफी महत्वपूर्ण है। यह कई सदियों से इस्तेमाल में होती आ रही एक जड़ी बूटी है।

अश्वगंधा का अर्थ होता है घोड़े की गंध। इसका यह नाम इसलिए पड़ा क्योंकि इसकी जड़ों की गंध ऐसी होती है जैसे घोड़े के पसीने की गंध। अश्वगंधा के पयोग से थायरायड, त्वचा संबंधी रोग, शरीर की दुर्बलता आदि को दूर किया जा सकता है। अश्वगंधा हमारे लिए यहाँ इतना फायदेमंद होता है। वहीं इससे हमारे शरीर कई तरह के नुकसान भी होते हैं। आइये विस्तार से जानते हैं कि अश्वगंधा के नुकसान के बारे में…

अश्वगंधा के नुकसान – Ashwagandha ke nuksan

#1 उनींदापन

जब हम अश्वगंधा का सेवन करने के बाद नींद आनी शुरू हो जाती है। परन्तु जब हम इसका सेवन लंबे समय तक करते हैं तो नींद का आना बंद हो जाता है। जब हम इसे शुरु करते हैं तो हमें थोडा कष्ट होता है। इसलिए इसका सेवन हमें रात को सोने से पहले करना चाहिए ।

#2 दवाएं बेअसर

अश्वगंधा के नुकसान में एक नुकसान यह हैं कि यदि आप किसी बीमारी से निजात पाने के लिए अश्वगंधा का सेवन कर रहें हो तो आप पर अन्य दवाईयों का किसी प्रकार का कोई असर नहीं होता। इसलिए आप को डॉक्टर की सलाह लेकर ही दवाओं का सेवन करना चाहिए।

#3 पेट संबंधी समस्याएं

जो लोग अश्वगंधा की पत्तियों का सेवन करते हैं उनमें पेट संबंधी समस्याएं बनी रहने की आशंका होती है। असल में जब हम इसकी पत्तियों का सेवन करते हैं तो पैर में गैस बनने लगती है और जब हम इसका अधिक मात्रा में सेवन करते हैं तो उल्टियां और दस्त का सामना भी करना पड़ सकता है। यहीं नहीं जिन लोगों को अल्सर की समस्या होती है उन्हें खाली पेट या केवल अश्वगंधा का सेवन बहुत ही नुकसान पहुंचा सकता है।

#4 शरीर के तापमान का बढ़ना

अश्वगंधा के नुकसान में एक नुकसान यह है कि अश्वगंधा के सेवन से कुछ लोगों का शारीरिक तापमान बढ़ जाता है। जिसके कारण उन्हें बुखार का सामान करना पड़ सकता है। जब उन्हें अश्वगंधा का सेवन करके शरीर के तापमान में बढ़ोतरी का अहसास हो, तो उन्हें तुरंत ही इसका सेवन बंद कर देना चाहिए नहीं तो उन्हें इसके दुष्प्रभावों का सामना करना पड़ सकता है। बुखार हो जाने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

#5 शरीर के विपरीत रिएक्शन

यदि आप अश्वगंधा का प्रयोग सुजन को कम करने, गठिया के रोग को दूर करने, आर्थराइटिस आदि प्रकार के रोगों के लिए करते हो। तब आप को ऐसा सेवन बंद कर देना चाहिए। जब आप इसका नियमित रूप से सेवन करते हो तो आपकी प्रतिरोधक अधिक हो जाती है। जिसके कारण यह शरीर में विपरीत कार्य करना शुरु कर देता है।

#6 गर्भपात

गर्भवती महिलाओं को अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें गर्भ गिराने के गुण मौजूद होते हैं।

अन्य सावधानियां

  1. अल्सर की समस्या होने पर इसका सेवन खाली पेट नही करना चाहिए।
  2. बीमार होने पर अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिए इसका सेवन करने से दूसरी दवाओं का असर कम हो जाता है।
  3. जिन लोगों को अश्वगंधा के सेवन से बुखार की संभावना बनती है। उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  4. मधुमेह रोगियों, पाचन संबधी बीमारियों, अल्सर से पीड़ित रोगियों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।