बच्चों की आंख की जलन को कैसे दूर करें

बच्चों की देखभाल हर तरह से करना होता है। ऐसे में यदि हम बात करें उनकी आंखों की तो यह बहुत महत्वपूर्ण और नाजुक होती है। ऐसे में बच्चों की आंखों की देखभाल करना बहुत जरूरी है। हर मौसम का असर बच्चों की सेहत पर पड़ता है। यदि बात करें सर्दियों की तो ऐसे में बच्चों की आंखों में संक्रमण बीमारिंया हो सकती है जिसकी वजह है बच्चे का बार बार अपनी आंखों को हाथों से रगड़ना और प्रदूषण के बढ़ते असर का बच्चों की आंखों पर असार पड़ना। आइये जानते हैं कैसे बच्चों की आंखों की देखभाल।

सर्दियों में बच्चों की आंखों की देखभाल करने के हेल्थ टिप्स

आंखों का सूखापन

यदि आप सर्दियों में घर पर हीटर का प्रयोग करते हैं तो इससे आपके बच्चों की आंखों में ड्रायनेस की समस्या हो सकती है। ऐसे में आप इस बात का ध्यान दें कि बच्चे कीआंखों में सूखपन ना आए। एैसे में आप बीच बीच में पानी के हल्के हल्के छीेटें बच्चे की आंखों पर मारें।और हीटर से बच्चे को अधिक दूरी पर रखें।

बच्चे की आंख से पानी निकलना

यदि आपके नवजात शिशु की आंखों से पानी आ रहा हो या फिर संक्रमण की वजह से आंखों में लालीपन आ जाए तो ऐसे में बच्चे को डॉक्टर के पास ले जाएं।

भेंगापन या तिरछी नजर

यदि आपके बच्चे की आंखों पर भेंगापन या नजर तिरछी हो रही हो तो आप बिना देर किए बच्चे को डॉक्टर के पास ले जाएं।

क्या चीजें बच्चे को खिलाएं, आंखांे की समस्या से बचने के लिए

सर्दियों में बच्चे को हरी सब्जी, अंगूर, लहसुन, प्याज, जैतून तेल में बना खाना, बादाम, जामुन और मीठे पानी वाली मछली खाने को देते रहें। ये आहार बच्चे की आंखों की सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं।

चेक अप

आप नवजात शिशुओं की आंखों का चेकअप नियमित रूप से करवाते रहें। कई बार आंखो में आई बाल में अंतर आ जाता है जो समय पर इलाज से ठीक हो सकता है।

बच्चे की आदतों पर ध्यान दें और करें ये काम

नवजात शिशु के हाथ अक्सर गंदे हो जाते हैं ऐसे में आप अपने शिशु के हाथों को साफ करते रहें। और धीरे धीरे बच्चे में हाथ धोने की आदत को भी डलवाएं। इससे बच्चे की आंखों में संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।

अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाना

आप अपने बच्चे की आंखों को अल्ट्रावायलेट किरणों से होने वाले प्रभाव से भी बचाएं। खासकर की तब जब आप बर्फीली जगह पर जा रहे हों। ऐसे में बच्चे की आंखों पर सनग्लास लगाकर बचाएं। इस बात का ध्यान रखें कि सनग्लास ज्यादा डार्क यानि काले ना हो।

साफ ना दिखना

यदि आपका बच्चा आपसे इस बात के बारे में कह रहा है कि उसे दूर की वस्तु देखने में परेशानी हो रही है या फिर आंखों में दर्द , सिर में दर्द आदि हो रहा है तो आप बच्चे को देर किए बिना डॉक्टर के पास ले जाएं।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।