एल्‍यूमिनियम के फायदे सेहत के लिये

एल्‍यूमिनियम की फॉइल के बारे में आप सभी को पता है कि इसका इस्तेमाल हम रोटियों की पैकिंग के लिए करते हैं। एल्‍यूमिनियम जिस तरह से आपके खाने को नरम और ताजा रखता है ठीक उसी तरह से एल्‍यूमिनियम आपकी सेहत के लिए भी फायदेमंद है। खासकर शरीर में होने वाले सभी तरह के दर्द में। एक अध्ध्यन के बाद यह बात सामने आई है कि एल्‍यूमिनियम के फोइल पेपर को दर्द वाली जगह पर लगाने से दर्द ठीक होता है।

वैज्ञानिकों ने शोध के आधार पर एल्‍यूमिनियम फॉइल के चिकित्सिय गुणों के बारे में पता लगाया है। दर्द के लिए कैसे करें एल्‍यूमिनियम फॉइल का इस्तेमाल वैदिक वाटिका आपको बता रही है।  यदि आपको दर्द गर्दन, पैर, जोड़ों, पीठ और हाथ में हो रहा हो तो एल्‍यूमिनियम  फॉइल को बैंडेज की तरह बांध लें। एल्‍यूमिनियम का प्रयोग गठिया के इलाज में भी किया जाता है।

एल्‍यूमिनियम फॉइल में एंटी-इंफलेमेंटरी गुण होते हैं जो दर्द को ठीक करता है। वैज्ञानिकों के अनुसार दर्द वाली जगह पर एल्‍यूमिनियम फॉइल को  10 से 12 घंटे तक बैंडेज की तरह लगाने से गठिया के रोग में लाभ मिलता है। इस उपाय को एक सप्ताह को छोडकर दोबारा करना चाहिए।

गठिया का इलाज करते समय एल्‍यूमिनियम फॉइल पेपर को उंगूठे पर बांधना जरूरी होता है।

जुकाम में दे राहत

जुकाम को ठीक करने में एल्‍यूमिनियम फॉइल पेपर बेहद मददगार होता है। इसके लिए आपको पांच एल्‍यूमिनियम  फॉइल  पेपर लेने हैं और इन्हें पैर पर लपेटना है। हर परत को पैर में लपेटने से पहले उनके बीच में पतला कपड़ा और एक कागज जरूर रखें। और कम से कम दो घंटे के लिए पैर पर लगा रहने दें। इसके बाद इसे निकालकर दोबारा से ऐसे ही करें। इस उपाय को कम से कम दो बार जरूर करें।

आप अपने सुझाव हमे नीचे दिये गए कमेंट बॉक्स पर लिख सकते है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।