आलू का रस पीने के फायदे

आलू को हम सभी अपने खाने में इस्तेमाल करते हैं। उत्तर भारत में आलू को काफी पसंद किया जाता है। आलू जिस तरह से आपकी सेहत के लिए फायदा करता है ठीक उससे ज्यादा आलू का जूस शरीर को कई तरह की बीमारियों से मुक्त बनाता है। आलू के जूस के लाभ के बारे में वैदिकवाटिका आपको सारी जानकारी दे रही है। 

आलू का रस पीने के फायदे

आलू के जूस में फाइबर, विटामिन ए, बी और कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। 

आलू का रस – घटाए वजन

आलू का जूस आपके बढ़ते हुए वजन को घटा देता है। इसके लिए सुबह अपने नाश्ते से दो घंटे पहले आलू का जूस का सेवन करें। यह भूख को नियंत्रित करता है और वजन को कम कर देता है।

आलू का रस – दिल की बीमारी में

हार्ट अटैक जैसे खतरनाक बीमारी से बचने व इसे कम करने के लिए आलू का जूस बेहद लाभकारी है। आलू का जूस कोलेस्ट्रोल के स्तर को नियंत्रित रखता है।

आलू का रस  – गठिया की समस्या में 

गठिया के रोग में आलू का जूस बेहद कारगर तरह से काम करता है। आलू के जूस को पीने से यूरिक एसिड शरीर से बाहर निकलता है। और गठिया की सूजन को कम करता है।

आलू का जूस पीने से ट्यूमर, कैंसर, नब्ज का अवरोध और सिर दर्द जैसी समस्याये समाप्त हो जाते है।

आलू का रस – जोड़ों के दर्द में

आलू का जूस जोड़ों के दर्द व सूजन को खत्म करता है। अर्थराइटिस से परेशान लोगों को दिन में दो बार आलू का जूस पीना चाहिए। यह दर्द व सूजन में राहत देता है। शरीर में खून के संचार को भी बेहतर बनाता है आलू का जूस।

आलू का रस – किडनी के रोगों में

आलू का रस किडनी से संबंधित हर तरह की बीमारियों से बचने के लिए लाभकारी होता है। किडनी व गाल ब्लैडर की गंदगी और लिवर की गंदगी को शरीर से बाहर निकाल देता है। 

हेपेटाइटिस जैसी गंभीर बीमारी से बचने के लिए आलू का जूस पीना लाभदायक होता है।

आलू का जूस ब्लड प्रेशर और डायबिटीज को जड़ से खत्म करता है।

आलू का जूस पीने से शरीर में कैल्शियम का पत्थर नहीं बनता है। जो शरीर में पथरी नहीं होने देता है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।