आँख आने पर घरेलू उपचार

आँख आने पर घरेलू उपचार

हमारी नाजुक सी आँखों को कई समस्याओं से गुजरना पड़ता हैं। उन्हीं में से एक हैं आँख का आना आँख बच्चों से लेकर बड़ी उम्र के लोगों को आ सकती हैं। जब भी आँख आती हैं तब आँख में बहुत ही दर्द होता हैं।

लेकिन अगर हम आँख आने पर कुछ घरेलू उपाय करते हैं तो आँख आने की समस्या से आप जल्द ही छुटकारा पा लेते हैं। आँख आने के घरेलू उपचार में आप शहद, जायफल, हल्दी, मुलहठी, धनिया आदि का प्रयोग कर सकते हो। आइये विस्तार से जानते हैं आँख आने पर घरेलू उपचार के बारे में।

शहद का प्रयोग

आँख आने पर नमक को शहद के साथ मिलाकर सुबह शाम आँख पर लगाने से इस समस्या से छुटकारा मिल जाता है।

जायफल

जायफल को पीसकर दूध में मिलाकर आँखों में लगाने से आपको आँखों से संबंधित सभी बीमारियों से निजात मिलती है।

धनिया का प्रयोग

धनिये का काढा तैयार करके अच्छी तरह से छान लें। अब इस काढ़े को बूंद बूंद करके है दो से तीन घंटों में आँख में डालते रहें। इसका प्रयोग करने से आँख को आराम मिलता है। इस काढ़े को आँखों में डालने की शुरुआत करने से पहले आँखों में एक बूंद एरंड तेल डाल लें। यह आँख आने और आँखों के दर्द की बहुत लाभकारी दवा है।

हल्दी का प्रयोग

हल्दी को पानी में उबालकर छान लें फिर इसे आँख में बूंद बूंद करके डालें। इससे आपकी आँख में दर्द कम होता है। इससे आँखों में कीचड़ आना और आँख का लाल होना आदि रोग समाप्त हो जाते हैं। इसके लिए आप कपड़े को हल्दी से रंग कर आँख आने पर प्रयोग कर सकते हो। हल्दी से रगें हुए कपड़े का प्रयोग आँख को साफ़ करने पर फायदा मिलता है।

मुलहठी का प्रयोग

मुलहठी को पानी में भिगो दें फिर हर दो घंटे के बाद उस पानी में रुई डुबोकर आँखों पर रखने से आँखों की जलन और दर्द कम होता है।

बेर का प्रयोग

बेर की गुठली पीसकर गर्म पानी से मिलाकर अच्छी तरह से छान लें। फिर इसे आँखों में डालने से आँख आना और आँखों का दर्द ठीक हो जाता है।

आंवला का प्रयोग

आंवले का रस निकालकर उसे किसी कपड़े में छान लें। इस रस की बूंद बूंद करके आँखों में डालने से आँखों का लाल होना और आँखों की जलन जैसी समस्याओं से तुरंत निजात मिलती है।

त्रिफला का प्रयोग

त्रिफला का चूर्ण पानी में भिगों दें कुछ समय के बाद उस पानी को अच्छी तरह से छान लें। फिर उस पानी से दिन में चार से पांच बार आँखों पर छीटें मारे। इससे आँख रोग में फायदा मिलता है।

दूब का प्रयोग

हरी दूब या घास के रस में रुई के टुकड़े को भिगोकर आँख पर लगाने से आंख का आना जैसे रोग से छुटकारा मिलता है।

हरड का प्रयोग

आँख आने पर हरड को रात में पानी में भिगोकर रखें। सुबह उस पानी को कपड़े से छानकर आँखों को धोये। इससे आँखों का लाल होना भी दूर हो जाता है।

नीम का प्रयोग

नीम के पत्ते और मकोय के रस को निकालकर आँखों पर लगाने से आँखों का लाल होना जैसी समस्याएं दूर हो जाती है। नीम के पानी से आँखे धोकर फिर आँखों में गुलाबजल या फिटकरी के पानी को बूंद बूंद करके डालें। इससे आपको आराम मिलता है।

बेल के पत्तों का प्रयोग

आँख आने पर बेल के पत्तों के रस को सुबह शाम पिएँ और उसके पत्तों का लेप बनाकर आँखों के उपर रखें। इससे आँख को बहुत ही आराम मिलता है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।