बच्चों का खाना – इन चीजों से करें परहेज

avoid-sweets-for-childrens-in-hindi

बच्चों को मीठा बहुत पसंद होता है। और वे हर मिठी चीज जैसे टाॅफी व चाॅकलेट आदि अधिक खाना पसंद करते हैं। बच्चों को बचपन से ही शक्कर से बनी हुई चीजों को नहीं खिलाना चाहिए। क्योंकि इससे बच्चे को हो सकती है कई बीमारियां। आइये आपको बताते हैं कैसे नुकसान पहुंचाती है शक्कर बच्चे को हाल ही में हुए शोध में बताया गया है कि बच्चों के लिए बनाए गए उत्पादों में कैमिकल युक्त रिफांइड शूगर मिली हुई होती है। जो सीधे बच्चों की सेहत पर असर डालती है।

सफेद शक्कर से होने वाली बीमारियां
दिल की बीमारी
शोधकर्ताओं ने अनुसार बच्चे को अधिक मीठाखाने से दिल से संबंधित कई तरह के रोग हो सकते हैं।

दांतों का सड़ना
सफेद शक्कर में मौजूद कैमिकल सीधा आपके बच्चों के दांतों को सड़ा देता है। और दांत जल्दी कमजोर होकर गिर जाते हैं।

पाचन तंत्र खराब होना
यही नहीं सफेद शक्कर को ज्यादा खाने से बच्चे का पाचन तंत्र कमजोर होता चला जाता है जिससे पेट की बीमारियां भी बच्चे को आसानी से लग सकती हैं। सफेद शक्कर संक्रमण पैदा कर सकती है।

मोटापा बढ़ना
शोध में यह भी कहा गया है यदि बच्चे बचपन से मीठा अधिक खाते हैं तो इससे आगे चलकर उन्हें मोटापे की समस्या हो सकती है। सफेद शक्कर बच्चे की इम्यूनिटी को बहुत ही कमजोर बना देते हैं।

बच्चों का मीठा खाने से कैसे रोकें

  • हर मां.पिता को बच्चों की आदतों पर ध्यान देना जरूरी है इसलिए आप बच्चों के लिए डिब्बाबंद चीजें या खाना ना खरीदें।
  • खाने की किसी भी चीज को खरीदें लेकिन उसका फूड लेवल भी जरूर देखें। यदि उसमें शुगर की अधिक मात्रा लिखी हुई तो उसे ना खरीदें।
  • ज्यादा बिस्कुट बच्चों का ना दें।
  • साॅस, जैम, टाॅफी व जैली आदि को भी बच्चे को ना खिलाएं।
  • कोल्ड ड्रिंक भी बच्चों को ना दें।
  • पीने वाली किसी भी चीज को बच्चों का ना दें जिसमें चीनी मिली हुई हो।
  • बच्चों को बिना चीनी युक्त चीजें खिलाएं और उनकी आदत बदलें।बचपन से ही बच्चे को आप यदि मीठा खिलाते हैं तो इससे आगे चलकर बच्चों को कई रोग लग सकते हैं। इसलिए बच्चों की आदतों में थोड़ा बदलाव करें। तभी आप इन सभी समस्याओं से बच सकते हो।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।