कब्ज के लक्षण, कारण और उपचार

कब्ज के लक्षण, कारण और उपचार

आज हम इस आर्टिकल के द्वारा आपको कब्ज के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में  बताने जा रहें हैं। जब हम कब्ज के बारे में बात करते हैं तो कब्ज पाचन तन्त्र की उस स्तिथि को कहते हैं जिसमें कोई व्यक्ति का मल बहुत कड़ा हो जाता है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति को मलत्याग में कठिनाई होती है।

कब्ज होने पर मल निष्कासन की मात्रा कम हो जाती है, मल कड़ा हो जाता है। उसकी आवृति घट जाती है या फिर मल निष्कासन के समय अधिक बल का प्रयोग करना पड़ता है। पेट में शुष्क मल का इकट्ठा होना ही कब्ज कहलाता है। कब्ज होने पर यदि हम इसका शीघ्र उपचार नहीं करते तो यह हमारे लिए बहुत बड़ी परेशानी का कारण बन सकता है।

एक स्वस्थ व्यक्ति की बात करें तो दिन में उसे कम से कम दो बार तो मल त्याग के लिए जाना ही चाहिए। लेकिन जिन लोगों को कब्ज की समस्या है उनकी इस समस्या को दूर करने के लिए आज हम आपको कुछ घरेलू उपाय बताते है। जिससे आप कब्ज की परेशानी से छुटकारा पा सकते हैं। चलिये जाने कब्ज के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में।

कब्ज के कारण

शरीर में कब्ज होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि :-

  • पानी का कम सेवन,
  • आंत, यकृत में किसी प्रकार की बीमारी,
  • सही समय पर खाना न खाना,
  • मधुमेह या शुगर,
  • भोजन चबाकर न खाना,
  • गर्म दवाईयों का सेवन, शराब, चरस गांझा,या ड्रग्स का सेवन,
  • खाना खाने के बाद सीधे बिस्तर पर लेटना और देर रात तक जागना,
  • तेज मिर्च मसालेदार भोजन का सेवन,
  • तले हुए मैदे के व्यंजन,
  • लगातार पेनकिलर या दर्द निवारण दवाओं का सेवन,
  • कई बार हारमोन की गडबडी, थाइरायड या शुगर की समस्या,
  • पहले का भोजन हजम हुए बिना दोबारा भोजन खाना,
  • व्यायाम बिल्कुल भी न करना,
  • खाना खाने के तुरंत बाद फ्रिज का ठंडा पानी पीना,
  • रात को देर से खाना खाना और फिर तुरंत ही लेट जाना।

कब्ज के लक्षण

  • साँसों की बदबू,
  • लेपित जीभ,
  • बहती हुई नाक,
  • पेट का सही से साफ़ न होना,
  • पेट में भारीपन रहना,
  • गैस की समस्या,
  • शौच साफ़ न होना,
  • मल सूखा, कड़ा और कम निकलना,
  • जोड़ों में दर्द,
  • चिड़चिड़ापन,
  • नींद न आना,
  • जीभ पर सफेद परत का जमा होना,
  • भूख में कमी,
  • सिर दर्द,
  • चक्कर आना,
  • चेहरे पर दाने होना,
  • मुंह में अल्सर,
  • जी मचलना,
  • पेट में लगातार परिपूर्णता।

कब्ज को दूर करने के उपाय

कब्ज को दूर करने के लिए आप कुछ घरेलू नुस्खे भी अपना सकते हैं जो एकदम से नेचुरल है और इसका इस्तेमाल करने से हमें किसी भी प्रकार का कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता। ये घरेलू नुस्खे कुछ इस प्रकार से है :-

1. त्रिफला चूर्ण

त्रिफला का अर्थ है तीन फलों का मिश्रण। वो तीन फल हैं हरड, बेडी, और आंवला। इन तीनो को पीसकर जो चूर्ण तैयार होता है। उसे हम त्रिफला कहते हैं इस चूर्ण को रात को सोने से पहले पानी के साथ लें।  इससे आप का पेट साफ़ तो होगा साथ में पेट से जुडी हुई बीमारियों से भी राहत मिलेगी।

2. इसबगोल भूसी

आपने अपने घरों में इसका सेवन करते हुए अपने बजुर्गो को जरुर देखा होगा। इसमे फाइबर की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इसके एक या दो चम्मच को दही या दूध के साथ लेने से आप को कब्ज से राहत मिलेगी और साथ में आप को पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन भी करना चाहिए। नहीं तो आप की प्रोब्लम बढ़ सकती है।

3. एलोवेरा का जूस

कब्ज को दूर करने के लिए एलोवेरा बहुत ही फायदेमंद होती है। इसके लिए 2 चम्मच एलोवेरा जेल को सेब या संतरे के जूस में मिलाकर पीने से कब्ज से छुटकारा पाया जा सकता है।

4. अरंडी का तेल

कब्ज को दूर करने के लिए अरंडी का तेल किसी रामबाण दवा से कम नहीं है। एक चम्मच अरंडी के तेल में एक गिलास संतरे का रस मिलाकर सुबह पीने से बहुत ही लाभ मिलाता है। इससे पुरानी से पुरानी कब्ज दूर हो जाती है। इसको आप रात को सोने से पहले भी दूध में एक चम्मच अरंडी का तेल डालकर पी सकते हो।

5. आरसी के बीज

कब्ज को दूर करने के लिए एक बड़ा स्पून आरसी का पाउडर दही में मिलाकर रात को सोने से पहले खा लें। इससे आप को कब्ज में फायदा मिलेगा।

6. नीबू का रस

सुबह उठकर एक या दो गिलास नीबू का पानी पीने से कब्ज में बहुत ही राहत मिलता है। इसमें आप सेधा नमक भी मिला सकते हो। इसका सेवन आप रात को भी कर सकते हो।

इसके इलावा आप मेथी पाउडर, अंजीर, शहद, और अधिक मात्रा में पानी  का सेवन करके भी कब्ज जैसी बीमारी से राहत पा सकते हो।

कब्ज में क्या खाना चाहिए ?

कब्ज से निजात पाने के लिए इसमें सही खानपान की जानकारी बहुत ही जरूरी है। भले ही आप दवा का सेवन क्यों न कर रहें हो और वो दवा कितनी भी महंगी और असरदार क्यों न हो। लेकिन जब तक आप अपने खान पान पर विशेष रूप से ध्यान नहीं देते तब तक यह सब बेकार है। आइये जानते हैं कब्ज में क्या खाना चाहिए।

  • कब्ज में उड़द की दाल को छोड़ कर बाकी सभी छिलके वाली दालों का सेवन करें।
  • खाद्य पदार्थ जहां तक हो सकें प्राकृतिक रूप में ही सेवन करें।
  • नियमित रूप से सेब, अंगूर या पपीते का सेवन करने पर कब्ज की समस्या से छुटकारा मिलता है। कच्चा और पक्का पपीता दोनों ही फायदेमंद होते हैं।
  • अंकुरित अनाज का सेवन करें गेंहू के रस का सेवन करें।
  • नियमित रूप से भोजन के साथ गाजर, मूली, प्याज, टमाटर, खीरा और चुकन्दर का सलाद लें। इसमें आप नींबू का रस और सेंधा नमक मिलाकर खाने से कब्ज का निवारण होता है। कब्ज से पीड़ित रहने वाले स्त्री पुरुष को रोजाना पालक, मेथी, बथुआ या चौलाई की सब्जी का सेवन करने पर कब्ज से मुक्ति मिलती है।
  • गाजर या फिर संतरे के रस का सेवन दिन में दो से तीन बार जरुर करें।
  • गेंहू, चना, जौ आदि की रोटी को चबा चबा कर खाएं।
  • भोजन में दलिया, खिचड़ी, मूंग, अरहर की दाल की मात्रा को बढायें।
  • फलों में केले, सेब, अनार, अमरुद, पपीता, आम, खरबूजा तथा सूखे मेवों में मुनक्का, अंजीर, किशमिश, बादाम आदि का सेवन करें।
  • कच्चे केले का सेवन जरुर करें। क्योंकि कच्चा केला आँतों को साफ़ करता है।
  • अपने भोजन में रोटी से अधिक हरी सब्जियों का सेवन करें। सुपरफूडस खाने के फायदे
  • रात को सोने से पहले गर्म मीठे दूध में मुनक्के का सेवन जरुर करें।
  • दोपहर के भोजन में बीच में और अंत में छाछ का सेवन जरुर करें।
  • हल्के गर्म पानी में नींबू का रस मिला कर पियें। इससे कब्ज दूर होता है।

कब्ज में क्या नहीं खाना चाहिए ?

  • मैदा और मैदे से बनाए हुए खाद्य पदार्थ जैसे नान, सफेद ब्रेड, पिज्जा, बर्गर, चाउमीन आदि से दुरी बना कर रखें।
  • मीट, अंडा व मछली खाने से कब्ज होती है इसलिए अगर आप इसका सेवन करना चाहते हैं तो इसे दूसरी सब्जियों के साथ मिला कर खाएं।
  • चावल का सेवन कम मात्रा में करें।
  • केला, प्याज, मूली, दही आदि को रात के समय न खाएं।
  • भोजन के फलें बीच में या आखिर में एक ही बार में अधिक मात्रा में पानी का सेवन न करें।

कब्ज दूर करने के लिए क्या करें

  • दिन में दो बार शौच जाने की आदत डालें।
  • सुबह शौच जाने से पहले एक से दो गिलास पानी के पियें।
  • भोजन के एक घंटा बाद पानी का सेवन करें।
  • सरसों के तेल से सुबह शाम अपने पेट की मालिश करें।
  • भोजन के तुरंत बाद मानसिक परिश्रम न करें।
  • कब्ज के उपाय के लिए दिन में दो बार खाना खाने के बाद एक गिलास गर्म पानी घूट घूटकर चाय की तरह पीने से पुराने से पुराना कब्ज और गैस में फायदा मिलता है।
  • मानसिक तनाव, चिंता, क्रोध या दुखी अवस्था में भोजन न करें।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।